इंतजार

कब से इंतजार कर रहा हूँ मैं

कि तुम उतरो मेरे आँगन में

और मेरे हाथों में हाथ डालकर

मेरे साथ नाचो, गाओ, झूमो

देखो, मैं कितना खुश हूँ

पर खुशी को अकेले तो भोगा नहीं जा सकता

तुम भी आओ मेरे साथ

मेरी खुशियों के सहभागी बनो

तुम आओगे तो मैं यह भी भूल जाऊँगा कि

मैं किसी कारण से खुश था

मैं तो तुम्हारे आने की खुशी में ही पागल हो जाऊँगा

तुम्हारे आने की खुशी से बढ़कर और खुशी क्या होगी

तुम आ जाओ दोस्त मेरे

मैं तुम्हारा इंतजार कर रहा हूँ।

Advertisements

About Srijan Shilpi

Your friend, philosopher & guide
This entry was posted in समसामयिक. Bookmark the permalink.

4 Responses to इंतजार

  1. pragya says:

    life is waiting.Its a long wait for happiness, loved ones,a wish to come true,to go home,to attain the impossible, to attain nirvana ,this or that.

  2. अच्छी कविता है।
    शुभकामनाएँ

  3. Anonymous says:

    This post has been removed by a blog administrator.

  4. Anonymous says:

    बहुत मनमोहक कविता है,लिखते रहिये

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s