चिर-प्रतीक्षित

कब से सुन रहा हूँ सुदूर से आती हुई
तुम्हारे पदचापों की मधुर ध्वनि
आ रहे हो तुम
धीरे-धीरे हमारे बीच
तुम्हारे आने की ख़बर
हमें सदियों से है
हम हर घड़ी तुम्हारे ही इंतजार में रहे हैं।

पहुँच चुके हैं धरा पर
तुम्हारे पगों के स्पंदन
आ तो चुके हो मगर छुपे हो
आम लोगों की ओट में
न हो तुम कोई राजकुमार
और न ही किसी पंडित की संतान
न तो तुम किसी नेता के बेटे हो
और न ही किसी अफसर के पुत्र
इतने सीधे-साधे हो तुम
कि लगते नहीं कि तुम ही हो।

 

पुराणों ने कह दी थीं तुम्हारे आने की कथाएँ
भविष्यवेत्ताओं ने भी कर दी भविष्यवाणियां
हमें तुम्हारा नाम-पता मालूम था हमेशा से
और तुम्हारे रूप व कर्म के विवरण भी
लेकिन तुम तो वैसे लगते ही नहीं !

 

सूर्योदय की सुनहरी किरणों में
झलकता था तुम्हारा तेजोमय रूप
वर्षा की इंद्रधनुषी फुहारों में
निखरता था तुम्हारी प्रभा का वलय
हवा की बहारों में
नादित होते थे तुम्हारे मधुर अस्फुट स्वर
हर साँस के साथ उमड़ती थी प्यास
तुम्हारी चिन्मयी शक्ति की लहरियों से जुड़ने की
लेकिन अब तुम जब इतने सम्मुख हो तो
तुम्हारी सहजता और सरलता ही असाधारण लगती है।

 

क्षमा करना
अवतारों-पैगम्बरों की कथाओं और दावों ने
बुद्धि भ्रष्ट कर दी है हमारी
शब्दों के भ्रमजाल से
विकृत हो चुकी है संप्रेषण की हमारी शक्ति
नेताओं, अभिनेताओं और साधुओं ने
दिग्भ्रमित कर दिया है हमें
निष्प्राण हो चुकी है हमारी संवेदना
हम तुमको ठीक से पहचान नहीं पा रहे हैं।

 

लेकिन फिर भी दिल में पक्का विश्वास है
तुम वही हो जिसका हमें जन्मों-जन्मों से इंतजार है
जिसके मन में न अहंकार है
और न ही कोई स्वार्थ है
जिसकी शक्ति प्रतिबद्ध है
न्याय और धर्म के लिए
हमारी सेवाएँ समर्पित हैं तुम्हारे ही लिए।

Advertisements

About Srijan Shilpi

Your friend, philosopher & guide
This entry was posted in साहित्य. Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s